SEO KYA HAI KAISE KARATE HAI

SEO क्या है ? SEO कैसे करते है ?

seo kya hai aur kaise karate hai इस तरह के सवाल आपके मन में अभी होंगे तो इस आर्टिकल में आपके मन के अंदर जो भी प्रश्न है उसका पूरा समाधान यहाँ होगा .

SEO मतलब “Search Engine Optimization”. आसान भाषा में ” यह एक प्रोसेस है जहा आप आपकी वेबसाईट को बेहतर बनाते हो ताकि आपकी साईट सर्च ENGINE में टॉप पर Rank कर सके “.

Screenshot 131

जब भी एक नया Blogger ब्लॉग्गिंग को शुरुवात करता है तब Blogger के मन में कई सवाल खड़े होते है उसमें सबसे SEO अहम् होता है . SEO यह Blogging का एक महत्वपूर्ण अंग है जिसे हम Blogging कि जान भी कह सकते है .

किसी भी आर्टिकल को हम एक SEO फ्रेंडली आर्टिकल बनाते है तब वह आर्टिकल Google के सर्च ENGINE पर टॉप पर Rank करता है . और जब आर्टिकल टॉप पर Rank करता है तब उस वेबसाइट पर बहुत ज्यादा Customer / visitor आते है .

किसी भी Content को Google के फर्स्ट पेज पर Rank कराना इतना आसान काम नहीं है उसके लिए मेहनत तो करनी होगी . फर्स्ट पेज पर आर्टिकल को Rank करना महत्वपूर्ण इसलिए है कि जो भी User गूगल पर Search करता है तो फर्स्ट पेज पर जो भी आर्टिकल Rank किए हुए है उस पर ही विश्वास रखता है और ज्यादा से ज्यादा उसे ही पसंद करते है .

आप जब WordPress को Seo Optimize करते हो तो तुरंत Website पर Traffic बढ़ जाता है और जब Traffic बढ़ जाता है तब Revenue भी बढ़ जाता है .

जब आप आपके होस्टिंग Account पर WordPress इंस्टाल करते हो तो उसे Default WordPress कहते है मतलब उस समय WordPress SEO फ्रेंडली नहीं होता है . आपको WordPress पर कुछ Settings बदलाव करके SEO Freindly बनाना होता है .

इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आपको Fundamental SEO Knowledge मिलेगा और आपके दिमाग में Confidence निर्माण हो जाएगा जो आपको आगे बढ़ने में मदत करेगा .

एक ही आर्टिकल पढ़कर आप SEO पूरी तरह सिख जाओगे ऐसा नहीं होगा उसके लिए आपको और भी जादा Knowledge लेना होगा और उसे Apply करना होगा तभी आप अच्छी तरह से SEO सिख जाओगे .

में HINDI ME BLOGGING पर लगातार Update डालता रहूँगा क्योंकि कोई भी व्यक्ति एक ही बार सीखकर SEO में Expert बन नहीं सकता क्योंकि Google हमेशा उसका ALGORITHAM CHANGE करता रहता है .

ये चीज़ ही ऐसी है और समय के साथ साथ और जरुरत के हिसाब से ये बदलता रहती है. लेकिन फिर भी Google SEO Guide के कुछ Fundamentals हैं जो की हमेशा समान होते हैं. इसलिए ये जरुरी है की Bloggers हमेशा खुदको नए SEO तकनीक से Updated रहें. seo kya hai aur kaise karate hai

SEO KYA HAI ? SEO क्या है ?

SEO KYA HAI AUR KAISE KARATE HAI …SEO का फुल फॉर्म है “Search Engine Optimization.” यह एक ऐसा PROCESS है जहां हम QUALITY और QUANTITY OF WEBSITE TRAFIC बढ़ाते है . इस प्रकार को हम ORGANIC प्रक्रिया कहते है . मतलब PAID ADS पर पैसा खर्च न करके हम वेबसाइट को SEO OPTIMIZE करने से ट्राफिक ले आते है .

जब हम SEO सिखाना शुरू करते है तब सबसे IMPORTANT बात यह है कि , PEOPLE ऑनलाइन क्या SEARCH कर रहे है , उनको किस प्रश्न के उत्तर चाहिए , ऑनलाइन सर्च करते समय कौनसे WORDS सर्च कर रहे है , किस प्रकार का CONTENT सर्च हो रहा है . इन सबका जब हमें उत्तर मालूम हो तब हमें PEOPLES के साथ कनेक्ट हो कर उनको SOLUTION हमें देना चाहिए .

तो यहाँ महत्वपूर्ण बात यह है कि , एक तरफ Audience’s Intent कहा है यह देखना चाहिए और दूसरी तरफ जो भी Conent हम Audience’s को दे रहे है उसे इस तरह से डिलीवर करना चाहिए कि  Search Engine Crawlers उसे आसानी से देख सके और समज सके .

तो हमें अब इस आर्टिकल में यह दोनों चीज सिखाना है और साथ ही Apply करना है .

10 आसान स्टेप्स में सीखे BLOGGING क्या है 2021?

Blogging कैसे शुरू करे हिंदी में

SEO kaise kam karata hai ? SEO कैसे काम करता है ?

सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि किसी भी वेबसाइट पर बहुत सारा Organic Traffic बढ़ाने के लिए आपको Paid ads के जैसे Search Engine को पैसे pay नहीं करने होते है .

सर्च इंजन तीन मुख्य आधार पर काम करता है जो कि निचे दिया हुआ है .

Crawling: यह एक प्रोसेस होता है जहा सर्च इंजन अपने रोबोट्स मतलब CRAWLERS को नया जो भी Content अपडेट हो गए है उन Content को देखने के लिए छोड़ता है इसे CRAWLING कहते है .

Indexing: जब CRAWLING होता है तब सर्च इंजन इनफार्मेशन को Store and Organize करता है . इसे INDEXING कहते है .

Ranking: जब हम सर्च इंजन पर सर्च करते है तब सर्च इंजन Highly Relevant Content को दिखता है उसे रैंकिंग कहते है .

Google और Bing इस तरह के Search Engine एक वेबसाइट से दुसरे वेबसाइट पर इनफार्मेशन Collect करने हेतु और उस Pages को Index करने के लिए अपने Bots का उपयोग करके Web Page पर Crawl करते है .

Google का Algorithm यह एक ऐसा सिस्टम है जिसका उपयोग करके Google जो भी पेज Index हो गए है उस पर Ranking Factors Apply करके उन Pages को Search Engine में टॉप पर Rank करता है . Ranking Factors में Content Optimization, And Crawlability And Mobile-Friendliness इस तरह के और भी बहुत फैक्टर आते है .

Search Engine Algorithm किसी भी वेबसाइट को Rank करने के लिए Surface Relevant, Authoritative Pages और Users with an Efficient Search Experience को Priority देता है .आप अगर इन Factors के Basis पर Content को ऑप्टिमाइज़ करते हो तो आपका भी पेज Google Search Engine पर Rank जरुर करेगा.

इस तरह से सर्च इंजन किसी भी Blog Post को Rank करने के लिए काम करता है

WHY SEO IS IMPORTANT FOR MARKETING ? SEO महत्वपूर्ण क्यों है ?

seo kya hai aur kaise karate hai यह एक डिजिटल मार्केटिंग का मूलभूत अंग है जिसके बिना मार्केटिंग अधुरा है. हर साल ट्रिलियन सर्चेस Product और Services के लिए सर्च इंजन पर किया जाता है . किसी भी वेबसाइट पर ट्राफिक के लिए सर्च इंजन यह एक प्राइमरी Source होता है जिससे ट्राफिक आता है .

जब सर्च इंजन पर आपके Content कि Ranking और Visibility सबसे टॉप पर होती है तब उसका फायदा आपको बहुत मिलता है क्योंकि जितना ऊपर आपका आर्टिकल Rank करेगा उतना ट्राफिक आपके साईट पर आ जाएगा .

किसी भी डिजिटल मार्केटर को अगर वेबसाइट पर ट्राफिक ले आना है तो उसे SEO सिखना होगा जो कि बहुत जरुरी है . जब आप SEO किया हुआ Content आपके Blog पर पोस्ट करोगे तब वह आर्टिकल सर्च इंजन पर Rank करेगा .

अगर हम Paid ads , Social Media इस तरह के Platform और Organic ट्राफिक कि तुलना करेंगे तो सबसे ज्यादा Traffic जो है सर्च इंजन से आता है . हम जब SEO ऑप्टिमाइजेशन करते है तो 20X ट्राफिक मोबाइल और डेस्कटॉप पर जनरेट होता है .

SEO एक मात्र Marketing Channal तरीका है जिसे हम जब पूरी तरह से सेट करते है तब हमें बहुत लंबे समय तक ट्राफिक मिलता है . जब हम एक अच्छा Content लिखते है और उसे एक Correct Keyword Word पर Rank करेंगे तो ट्राफिक भर भर के आयेगा , परंतु हम जब PAID ads से Traffic जनरेट करते है तो उसे हमको लगातार पैसे देने होंगे .

आप आपके वेबसाइट को Well Optimization करते है तब सर्च इंजन को अच्छा Content मिलता है जिससे सर्च इंजन आपके Content को Index करता है.

  • SEO केवल Search Engines के लिए नहीं है बल्कि अच्छे SEO Practices के होने से ये User Experience को बढ़ाने में मदद करता है और आपके Website के Usability को भी बढ़ता है.
  • Users ज्यादातर Top Results को ही Trust करते हैं और इससे उस Website की Trust बढ़ जाती है. इसलिए SEO के सन्दर्भ में जानना बहुत जरुरी होता है.
  • SEO आपके Site के Social Promotion के लिए भी बहुत जरुरी होता है. क्यूंकि जो लोग आपके Site को Google जैसे Search Engine में देखते हैं तब वो ज्यादातर उन्हें Social Media जैसे की Facebook, Twitter, Instagrame में Share जरुर करते हैं.
  • SEO किसी भी Site के Traffic को बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करता है.
  • SEO आपको किसी भी Competition में जरुर आगे रहने में मदद करता है. उदहारण के लिए अगर दो Websites समान चीज़ें बेच रही हैं, तब जो Website SEO Optimized होती है वो ज्यादा Customers अपने और खींचती हैं और उनकी Sales भी बढ़ जाती है वहीँ दूसरी उतना नहीं कर पाती हैं.

TYPES OF SEO? SEO के प्रकार कौनसे है?

SEO मतलब Search Engine Optimization . SEO के दो मुख्य प्रकार है एक ON PAGE SEO और दूसरा OFF PAGE SEO . इन दोने का काम बिलकुल अलग है चलिए हम इनके बारे में भी जान लेते हैं.

  1. On Page SEO
  2. Off Page SEO

ON PAGE SEO

ON PAGE SEO KYA HAI ON PAGE SEO में हम मुख्य कंटेट पर प्रोसेस करते है ताकि वह आर्टिकल गूगल पर टॉप पर Rank कर सके . Google का सर्च इंजन जब हमारे पेज पर CROWLING करता है तब उस Content को समज लेता है . उससे Google को यह पता चलता है कि हमारा आर्टिकल किस विषय पर आधारित है .

ON PAGE SEO में सबसे महत्वपूर्ण Meta title, Description, Heading tags, Internal links इस तरह के कुछ Tags है जो हमें Optimize करने होते है. जिससे Google पर Higher रैंकिंग कि Chances बढ़ जाते है .

इस आर्टिकल मे में आपको ON PAGE SEO पर पूरी तरह से जानकारी दे रहा हु जो कि आप उसे आपके Blog पर Apply कर सके जिससे आपका आर्टिकल Rank करेंगा .

आप आपके Blog पर ON PAGE SEO TOOLS का भी इस्तेमाल कर सकते हो जिससे आप जब पूरी तरह से Content लिखते हो तब आपको SEO TOOL गाइड करेगा .

यहाँ कुछ SEO TOOLS कि लिस्ट है जिसे आप इस्तेमाल करा सकते हो जिसका USE करना आसान है .

  1. SEMRUSH SEO WRITING ASSISTANT
  2. FRASE
  3. RANK MATH SEO

On-site SEO और On-page SEO में कुछ फरक दिखाई देता है वह पहले समज लेते है .

On-site SEO में हम पूरी वेबसाइट को Optimization करते है जैसे कि Sitemap और Setting Permalink Structure.

On-page SEO में हम Content को Optimize करते है और Keyword को टारगेट करते है जिससे आर्टिकल Rank होता है .

आपको ON PAGE SEO क्यों जरुरी है?

जब आप आर्टिकल लिखते हो और उसे PUBLISH करते हो तो आपका आर्टिकल Google पर टॉप पर क्यों Rank नहीं करता कुछ पता है . हा उसके लिए हजारो Reasons होंगे अगर आप मुझे पूछोगे तो SEO इस का Biggest Reason है .

जब भी हम SEO Optimized आर्टिकल लिखते है तो हम बहुत सारे rule follow करे है जो कि google पर Rank करने के लिए जरुरी है .

Google सिर्फ ON-PAGE SEO का स्कोर रैंकिंग के लिए Consider नहीं करता . और भी बहुत फैक्टर्स है जैसे कि Social Media Signals (shares, likes, tweets, follows, etc.) Backlinks, Domain Authority और Many Other OFF-PAGE Metrics.

अब में आपको कुछ ON-PAGE SEO के फैक्टर्स निचे दे रहा हु, जो कि आप जब आर्टिकल लिखते हो तो उसकी मदत से SEO Optimized आर्टिकल लिख सकोगे .

On-Page SEO Techniques

अब में आपको कुछ ON PAGE SEO टेक्निक्स बता रहा हु जिसे आप आपके blog पर apply कर

1.META TITLE TAG

  1.   आप जब आर्टिकल लिखेते हो तब आपको Title( H1) के शुरवात में Targeted Keyword अथवा Keyword Phrase इस्तेमाल करना होगा अगर यह POSSIBLE नहीं है तो सिर्फ Title में तो Targeted Keyword इस्तेमाल करो .

आपको एक समान Keyword को बहुत बार रिपीट नहीं करना है उसे एक ही बार Title में इस्तेमाल करना है क्यों कि यह रैंकिंग पर असर करता है .

और एक महत्वपूर्ण बात यह है कि Title का Length आपको ज्यादा से ज्यादा ६५ शब्दों में लिखना होगा .

2.PARMLINK STRUCTURE

जब आप आर्टिकल पूरा लिखते हो तब आपको आपके आर्टिकल के URL पर ध्यान देना होगा .

आपको उस URL में Targeted Keyword को डालना होगा ताकि सर्च इंजन को जल्दी पता चले कि Content किस विषय पर आधारित है .

Example of a good permalink:   https://hindimeblogging.com/blogging-kaise-kare-2021-in-hindi/

3.Use Proper Heading Tags

जब आप Content लिखते हो उस वक्त आप जो भी HEADING , SUBHEADING , IMPORTANT POINTS लिखते हो तब आपको PROPER HEADING टैग्स देने है ताकि उसे अच्छी तरह से हाइलाइट्स कर सके .

1.TITLE TAG – TITLE TAG मतलब H1 TAG यह टैग आपको सिर्फ हैडिंग के लिए इस्तेमाल करना है जो कि आपके Content का हैडिंग होता है यह सिर्फ एक ही होता है .

2.H2 TAG आपको SUBHEADING के लिए इस्तेमाल करना है और H3 TAG उसे आपको पॉइंट्स के लिए इस्तेमाल करना है .

4. USE TABLE OF CONTENT

कभी कभी आर्टिकल बहुत बढ़ा हो जाता है तब यूजर को अच्छी तरह से नेव्हिगेट करने के लिए आपको टेबल ऑफ़ कंटेंट का इस्तेमाल करना होगा ताकि यूजर आसानीसे Content को देख सके .

आप Easy Table Of Content इस Plugins का इस्तेमाल कर सकते हो जो कि बिलकुल फ्री है इससे आप यूजर को नेव्हिगेट करने के लिए टेबल का निर्माण कर सकते हो जिससे यूजर उस टेबल में लिंक पर क्लिक करके उसको जिस भी चीज कि जानकारी चाहिए उसे देख सकता है .

5.KEYWORD DENSITY

आप जब आर्टिकल लिखते हो तो उसमे १.५ % Keyword Density होनी चाहिए उसके साथ आप जो भी टारगेट Keyword इस्तेमाल करते हो उसके साथ रिलेटेड Keyword भी इस्तेमाल करना होगा .

इससे सर्च इंजन को आपके Content के बारे पूरी जानकारी मिलती है और सर्च इंजन उसे Rank करता है .

आपको मेन Keyword फर्स्ट पैराग्राफ में एक ही बार इस्तेमाल करना है और लास्ट पैराग्राफ में एकबार इस्तेमाल करना है .

6.META TAGS

आपको हर एक Blog पोस्ट के लिए एक यूनिक और बेहतर Meta Description लिखना होगा . आप जब Meta Description लिखते हो तो आपको Targeted Keyword उसमे इस्तेमाल करना होगा उससे रैंकिंग में मदत होती है . सर्च इंजन को आपके आर्टिकल का आसानी ने से सर्च करने मदत मिलती है .

7.IMAGES WITH  Alt text + Meaningful name

Image Optimization से बहुत सारा Traffic आपके वेबसाइट पर ले आने में मदत मिलती है. जब हम “Keyword Title ” और ” alt text ” में Keyword इस्तेमाल करते है, तो Blog पोस्ट और भी ज्यादा Focused और Targeted बनता है .

इसके लिए आपको Image अपलोड करते समय इमेज को सही नाम देना होगा और और alt text में Focused Keyword इस्तेमाल करना होगा .

 8.Word Count Per Post

जब आपका आर्टिकल आप बहुत लंबा नहीं कर सकते तब हम आर्टिकल लिखते है तो उसमे कम से कम 1000 Word लिखना चाहिए

मात्र आपको मेरी एक सलाह है कि आप आर्टिकल 2000 Words या उससे ज्यादा Words का लिखना चाहिए और वह आर्टिकल क्वालिटी होना चाहिए .

9.Internal Linking

Internal linking मतलब आपके Blog में जो भी पोस्ट है उसे दुसरे आर्टिकल में लिंकिंग करना

उससे आपके Blog Post पर Blog Readers ज्यादा समय रहने में मदत होती है और दुसरे Pages कि रैंकिंग में मदत होती है .

10.External Linking

External Linking मतलब जब आपका आर्टिकल दुसरे वेबसाइट पर लिंक करते हो

इसमे एक चीज ध्यान रखना जरूरी है कि , आप जब दुसरे Blog पर आर्टिकल लिंकिंग करते हो तब उस Blog पर Content आपके आर्टिकल से Relevant होना चाहिए .

आप जब External linking करते हो तब आपको सिर्फ  Trusted Websites पर ही लिंकिंग करना होगा .

Off Page SEO

Off Page SEO Kya Hai .. OFF PAGE SEO मतलब आपके वेबसाइट का SERP position बढाने के लिए जो भी प्रोसेस आप आपके वेबसाइट के बाहर करते हो ex. Brand Mentions , Commenting , Forums , Broken Link Building , etc.

Off Page SEO से Google Search Engine को यह मदत मिलती है कि , वह दुसरे व्यक्ति आपके बारे में क्या कुछ सोचते है मतलब Content , Services , Products etc.

Strong, Relevant Sites और High Levels Of Authority साइट्स पर हम जब लिंक Building करते है तब रैंकिंग के रेट बढ़ ज्याता है .

अब यहाँ निचे १2 अलग तरीके दिए हुए है जो कि महत्वपूर्ण है लिंक Building में .

Brand Mentions: अगर आपका Content अच्छा होगा और आपके पास क्वालिटी Backlinks होंगे तब लोग आपके उपर Trust करेंगे और सोशल मिडिया पर आपको Mension करेंगे .

Commenting : अपने Blog से Related ब्लॉग पर जाकर उनके पोस्ट में कमेंट कर सकते हैं और अपनी Website का Link लगा सकते हो (link वही लगाना चाहिए जहाँ website लिखा होता है)

Search Engine Submission: अपनी वेबसाइट को सही तरीके से सारे सर्च इंजन में Submit करना चाहिए.

 Directory Submission : अपनी Blog या Website को Popular High PR वाली Directory में Submit करना चाहिए.

 Social Media: अपनी Blog या Website का Page और Social Media पर Profile बनाना चाहिए और अपनी वेबसाइट का Link Ad करदो Like फेसबुक, Twitter

Forums : अलग अलग Forum,Discussion जहा आपके Product और Services के बारे में Discussion होता है , वहा आपको Participate होना चाहिए. यहाँ आपको अलग प्रोब्लेम्स Solve करने चाहिए और उसपर Discussion करना चाहिए इससे आपके Brand Value निर्माण होगी .

Influencer Outreach: आप Influencer से कनेक्ट हो करा उनको आपके Content के बारे में उनकी राय पूछ सकते हो . और जो भी कमेंट्स है उसे आपके साइट्स पर Mention कर सकते हो .

Guest Author: Google पर बहुत सारे ऐसे Blog है कि आप वहा Guest पोस्ट कर सकते हो उससे आपकी Value बढ़ जाती है अगर आपका आर्टिकल अच्छा हो तो .

Social Networking: बहुत लोग सोशल Media पर समय बिता रहे है , जब आप आपका आर्टिकल Social Media पर SHARE करते हो तब आपके Content पर रिच बढ़ जाती है .

Social Bookmarking : अपनी Blog या Website के Page और Post को SOCIAL SITES में Submit करना चाहिए.

Content Marketing: बहुत सारे ऐसे प्लेटफार्म है जैसे के Youtube for Video, Instagram for Images , Facebook and Twitter for Expressing Your Thoughts. यहाँ आप अलग फॉर्मेट में Content बनाकर मार्केटिंग कर सकते हो

Questions & Answers : Stack Overflow, Quora, and Yahoo Answers जैसे Questions & Answers वेबसाइट पर आप क्वालिटी आर्टिकल लिखकर और उसे Right People तक जब आप उसे पब्लिश करते हो तब आपकी Authority बिल्ड होती है .

CONCLUSION

आपको इस पोस्ट में यह पता चल गया कि ब्लॉग्गिंग के लिये SEO कितना महत्वपूर्ण है जिससे आपका पोस्ट Rank कर सकता है . आपको seo के दो प्रकार के बारे में पता चल गया एक ON PAGE SEO और दूसरा OFF PAGE SEO . आप अगर SEO पूरा सिख जाते हो और उसे Apply करते हो तो आपकी भी Blog पोस्ट Rank करेगी .

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

0 Shares
Share via
Copy link
Powered by Social Snap